उस दोस्त के लिए…. इश्क में खुदी को इतना न मिटा, की भूल जाए रिश्तों को हम, भुला चुके कई मील के पत्थर, भुला न दें मंजिल को हम| उस हसीन के लिए… नींद तुमको भी आ जाती, आँखों को हमने भी बंद कर लिया होता, आज आपने जो पर्दा कर लिया होता.. दिल ऐ