आदत और ज़रुरत

आदत और ज़रुरत से कुर्बत का गुमान होता है,
मगर इससे कहीं बढ़कर आदमी का ईमान होता है|

घर वो है जिसमें दिलों के रिश्ते पलते हैं,
चार दीवारों और एक छत का बस मकान होता है|

0.00 avg. rating (0% score) - 0 votes
%d bloggers like this: