अजब बात है

सब पा लिया खोकर अजब बात है,
मेरी नज़र की भी गज़ब बात है|

ना चाँद, ना सितारे, ना बादल, ना हवा,
ज़हन में सिमटी हुई अजब रात है|

वो पास रहे ना रहे कोई फर्क नहीं,
करीब है हमेशा उसका अजब साथ है|

0.00 avg. rating (0% score) - 0 votes
  • Chandrama

    Feels like my thought…perfectly worded!

%d bloggers like this: