बादल गुज़र जाया करते हैं

बादल गुज़र जाया करते हैं,
आप क्यों हम पे वक्त ज़ाया करते हैं|

तू मेरी फितरत पर मत जा,
हम दीवाने हैं हर किसी पे मरते हैं|
बादल गुज़र जाया करते हैं …

कुछ कह ना दे ख़ामोशी बेफिक्र,
हम तेरे इज़हार से डरते हैं|
बादल गुज़र जाया करते हैं …

कोई ज़मीन नाप ना ले मेरे इरादे,
हम कदम फूँक फूँक के रखते हैं|
बादल गुज़र जाया करते हैं …

ना मिलो मुझ अजनबी से तुम,
हमारे रंग मुश्किल से उतरते हैं|
बादल गुज़र जाया करते हैं …

लड़ें हम और दिल्लगी में तुझसे,
देखें जुनूं जिसका आप दम भरते हैं|
बादल गुज़र जाया करते हैं …

हम सहमे हैं अपने अंदर यूँ,
हर लम्हा ज़रा ज़रा मरते हैं|
बादल गुज़र जाया करते हैं …

है जिंदिगी बहुत छोटी फिर,
क्यों लोग बच्चों से रोज लड़ते हैं|
बादल गुज़र जाया करते हैं …

बस जाए पूरी खुदी एक पल में,
हम उस लम्हे की तलाश करते हैं|
बादल गुज़र जाया करते हैं …

चल उठ तेरा रास्ता तकती महफ़िल,
चल आज उस खामोश जगह चलते हैं|
बादल गुज़र जाया करते हैं …

खुमार जो चढा है तेरे सर ‘वीर’,
लोग इसे जूनून ए इश्क कहते हैं|

0.00 avg. rating (0% score) - 0 votes
%d bloggers like this: