बहुत देर से

तुम ना देखो तो मैं आँखें पोछ लूं,
बहुत देर से कुछ चुभ रहा है|

मंद होती है उम्मीद हर सांस से,
बहुत देर से कुछ बुझ रहा है|

0.00 avg. rating (0% score) - 0 votes
%d bloggers like this: