दोस्तों

कहना है तो आवारा मुझे कहो दोस्तों,
आओ मेरे साथ थोडा और बहो दोस्तों|

दोस्ती की है तो संभालो गिरते हुए,
बस देखते ना मुझे रहो दोस्तों|

मेरी फितरत तुम्हे ना लग जाए कहीं,
तुम भी ना लम्हा लम्हा मरो दोस्तों|

है इसकी अदा हमें तड़पाने की,
हौले हौले गम सहो दोस्तों|

क्या सब लाचार हैं तुझसे ‘वीर’,
कभी कुछ तो करो दोस्तों|

0.00 avg. rating (0% score) - 0 votes
  • Raghu

    माशाह अल्लाह . क्या कहने है जनाब

    • वीर

      शुक्रिया!

  • कहना है तो आवारा मुझे कहो दोस्तों,
    आओ मेरे साथ थोडा और बहो दोस्तों|

    -बहुत उम्दा!!

%d bloggers like this: