एक दिन तमाम

जैसे की कोई जंग वक्त से लड़के आ रहे हैं,
हम पूरा एक दिन तमाम करके आ रहे हैं|

अब अपना कुछ कहाँ बाकी रहा है ‘वीर’,
सारी जिंदिगी उसके नाम करके आ रहे हैं|

0.00 avg. rating (0% score) - 0 votes
%d bloggers like this: