गुज़रे सालों का

सवाल पूछ या जवाब दे,
मेरे गुज़रे सालों का हिसाब दे|

आईना बनकर सामने आ,
मेरे हाथों का ना किताब दे|

0.00 avg. rating (0% score) - 0 votes
%d bloggers like this: