हमने लबों पे मुस्कुराहट पहनी है

खामोश ज़हन में कैद बेचैनी है,
हमने लबों पे मुस्कुराहट पहनी है|

मत करो ज़ाया अपने जज़्बात तुम,
तकलीफ मेरी मुझे ही सहनी है|
हमने लबों पे मुस्कुराहट पहनी है…

धुऐं से चुभते हैं मरासिम खोकले,
बेबस आंखें रात भर बहनी है|
हमने लबों पे मुस्कुराहट पहनी है…

इल्म होता मेरी बेखुदी का उसे,
क्यों ज़रूरी हर बात कहनी है|
हमने लबों पे मुस्कुराहट पहनी है…

बयां ना कर खलिश ‘वीर’,
दुनिया जो है वही रहनी है|
हमने लबों पे मुस्कुराहट पहनी है…

0.00 avg. rating (0% score) - 0 votes
  • Chandrama

    बयां ना कर खलिश ‘वीर’,
    दुनिया जो है वही रहनी है|

    Simply beautiful! These two lines are a theory of life in itself. Outstanding.

  • बहुत खूब भाई , पढ़ने से लगा कि आप लिखते हो तो एक डुबकर , बहुत बढिया लगी आपकी ये रचना ।

    • वीर

      शुक्रिया ..

  • बयां ना कर खलिश ‘वीर’,
    दुनिया जो है वही रहनी है|
    बिलकुल सही बात है । कौन किसी की सुनता है यहाँ सब अपनी अपनी दौद मे आगे निकलने की होड मे हैं । धन्यवाद्

  • खामोश ज़हन में कैद बेचैनी है,
    हमने लबों पे मुस्कुराहट पहनी है|
    …very nice.

  • मत करो ज़ाया अपने जज़्बात तुम,
    तकलीफ मेरी मुझे ही सहनी है|

    ……वाह बहुत सुन्दर रचना … बधाई

    • वीर

      धन्यावाद ..

  • Harish kumar

    बहुत खूबसूरत लिखा है महोदय

%d bloggers like this: