इंतज़ाम

intzaam

मयखानों में शराबों का इंतज़ाम किजीये,
हम पढ़ने आये हैं, आँखों का इंतज़ाम किजीये|

मुझे ढूंढ रहा है मेरा माज़ी गलियों गलियों,
ए मेरी हसरत ओ तमन्ना.. ठिकानों का इंतज़ाम किजीये|
हम पढ़ने आये हैं, आँखों का इंतज़ाम किजीये…

ये नींद एक रात की नहीं.. सदीयों की है,
कब्र में जा रहा हूँ… ख़्वाबों का इंतज़ाम किजीये|
हम पढ़ने आये हैं, आँखों का इंतज़ाम किजीये…

आखिर आ ही गया.. क़यामत का दिन भी ‘वीर’,
मैं मिलने आया हूँ, आप जवाबों का इंतज़ाम किजीये|

इंतज़ाम
0 votes, 0.00 avg. rating (0% score)