काँटा हूँ आपकी चुभन का

लिबास हूँ आपकी घुटन का,
काँटा हूँ आपकी चुभन का|

कह ना पाया वो बात अपनी,
ढूँढता है आसरा सुखन का|
काँटा हूँ आपकी चुभन का…

सी दिया आपने मेरे लबों को,
गवाह हूँ आपके सितम का|
काँटा हूँ आपकी चुभन का..

गर लिखता रहा इस जुनून से ‘वीर’,
बन जाएगा तू बुत एक वहम का|

0.00 avg. rating (0% score) - 0 votes
%d bloggers like this: