कहीं खो जाऊँगा

पल में अक्स सा ओझल हो जाऊँगा,
अनजाने ख्वाब सा कहीं खो जाऊँगा|

खलिश भी ना होगी जुदाई की कोई,
तुम्हारे ज़हन में ऐसा बस जाऊँगा|
अनजाने ख्वाब सा कहीं खो जाऊँगा…

हाथों की लकीरों को जब देखोगे कभी,
इनमे कहीं तुम्हे मैं नज़र आऊँगा|
अनजाने ख्वाब सा कहीं खो जाऊँगा…

जब कभी सुनोगे हवाओं की सदा,
खुशबू बनके तुम में सिमट जाऊँगा|
अनजाने ख्वाब सा कहीं खो जाऊँगा…

गम के छलकेंगे अगर कभी अश्क,
तब ख्यालों में तुमसे लिपट जाऊँगा|
अनजाने ख्वाब सा कहीं खो जाऊँगा…

ये भी मेरा सच है मेरे हमनफस,
तुमसे मैं जल्द ही बिछड़ जाऊँगा|
अनजाने ख्वाब सा कहीं खो जाऊँगा…

0.00 avg. rating (0% score) - 0 votes
%d bloggers like this: