कल कर लूँगा

अपनी बात पर यकीं, कल कर लूँगा,
इस ख्याल को ज़मी, कल कर लूँगा|

तन्हाई में जलता है हर लम्हा,
उसकी यादों को हसीं, कल कर लूँगा|

कितने रिश्ते भुला दिए इश्क में,
अपनों को अज़ीज़, कल कर लूँगा|

मुस्कुरा कर मिलते हैं जो आज भी,
उनकी दोस्ती को तस्लीम, कल कर लूँगा|

वो भी तुझसा ही बेनसीब है ‘वीर’,
रकीब को नदीम, कल कर लूँगा|

_______________________________________

तसलीम – to greet, रकीब – rival, नदीम – close friend
_______________________________________

0.00 avg. rating (0% score) - 0 votes
  • Piyush

    Wah ustad wah…Apnon ko Aziz, kal kar loonga…shubhan allah

  • अच्छा व्यंग्य…
    ग़ज़ल में….

    • वीर

      शुक्रिया

  • Adaab Veeransh bhai

    Ek guzarish hai aapse… apni gazalon ke urdu shabdo ka agar matlab ‘postscript’ mein bayaan kar denge to hum jaise naye shaukheeno ke liye unhe samajhna aasaan ho jayega…

    Jaise upar wali gazal mein …

    Tasleem
    Raqeeb
    Nadeem

    ka matlab kya hai is paripeksh mein??

    • @Rahul, I have updated the post with meanings.

%d bloggers like this: