खुदसे बेईमान माना

तुम्हारी हर ख्वाहिश को अपना ईमान माना,
हमने कई बार खुदको खुदसे बेईमान माना|

हम इन दीवारों में एक घर ढूंढते रहे,
तुमने जिस पिंजरे को अपना मकान माना|
हमने कई बार खुदको खुदसे बेईमान माना…

मैं तबाह हुआ तो सफीनो ने सांस ली,
इस जुस्तजू से अच्छा मौत का फरमान माना|
हमने कई बार खुदको खुदसे बेईमान माना…

तुम ना ला सके एक मुस्कराहट भी खरीद कर,
तुमने नाहक ही पैसों को खुशियों की दूकान माना|

बस एक चूक हो गयी उनमान की मोहब्बत में,
इसे मंजिल समझे जब जिंदगी ने इसे मकाम माना|

तुम ही मेरी जिंदगी की इब्तिदा हो और इन्तहा भी,
तुम ही को हमने अपनी ज़मीन अपना आसमान माना|

ये अच्छा है के तुम लिखते हो ‘वीर’,
कई दिलजलों ने तुम्हें अपने दिल की जुबान माना|

2.00 avg. rating (49% score) - 1 vote
%d bloggers like this: