कुछ ऐसे पिसे ज़रूरतों की चक्की में

zarooraton-ki-chakki-mein

कुछ ऐसे पिसे ज़रूरतों की चक्की में,
खुदको पीछे छोड़ आये.. अपनों की तरक्की में|

मुद्दत का थका हुआ था, तो आख लग गयी,
सारा मंज़र ही बदल गया.. एक झपकी में|
कुछ ऐसे पिसे ज़रूरतों की चक्की में…

रिश्ता धुंधला गया, वक़्त के कोहरे में,
खबर ए रुखसत निगल गए.. एक सिसकी में|
कुछ ऐसे पिसे ज़रूरतों की चक्की में…

जाने किस दाग से आह निकली है ‘वीर’,
कई नाम लिखे हैं मेरी इस हिचकी में|

0.00 avg. rating (0% score) - 0 votes
%d bloggers like this: