कुछ तो कहीं हुआ है

कुछ तो ठीक नहीं है ऐसा मुझे पता है,
कुछ तो कहीं हुआ है ऐसा मुझे लगा है|

ज़हन का करार लूटा है अचानक बेचैनी ने,
जैसे ठहरे हुए पानी में कोई कंकड़ गिरा है|
कुछ तो कहीं हुआ है ऐसा मुझे लगा है…

इसे एक काफिर का खौफ ही समझिए ‘वीर’,
आज एक बुत के सामने मेरा सर झुका है|
कुछ तो कहीं हुआ है ऐसा मुझे लगा है…

 

0.00 avg. rating (0% score) - 0 votes
  • sangeetaswarup

    बहुत सुंदर

%d bloggers like this: