क्या था… क्या ना था

चली थी मुझ तक, यूँ तो कुछ तेज हवाएं,
पर उस ज़र्रे को मेरा दामन, गवारा नहीं था|

सदाओं पे एक अजनबी ने पलट कर देखा,
जिसे हमने तो कभी पुकारा भी नहीं था|

उसकी आवाज़ की लर्ज़िश बता रही है,
वो जो अपना था, अब हमारा नहीं था|

जिस शक्स को अपने सहारा दिया,
दुनिया में वो अकेला बेचारा नहीं था|

तुमने ही जिंदिगी, तन्हा बीता दी ‘वीर’,
वरना इस जहाँ में, कौन तुम्हारा नहीं था|

0.00 avg. rating (0% score) - 0 votes
%d bloggers like this: