मैं बिखर जाता हूँ

तेरी खुशी में ही अपनी खुशी पाता हूँ,
तुम सिमट जाओ मैं बिखर जाता हूँ|

मिलूँ तुम्हे हर शय के कतरे में,
यूँ तेरी खुदी में बरस जाता हूँ|
तुम सिमट जाओ मैं बिखर जाता हूँ…

है नहीं उम्र देने को पास मेरे,
हाँ कुछ लम्हें ज़रूर चुरा लाता हूँ|
तुम सिमट जाओ मैं बिखर जाता हूँ…

मुझे सदा अपने दिल ही में पाओगे,
तुमसे भला मैं कब दूर जाता हूँ|
तुम सिमट जाओ मैं बिखर जाता हूँ…

नाराज़ ना होना मेरी फितरत से तुम,
मैं अक्सर तन्हाइयों में खो जाता हूँ|
तुम सिमट जाओ मैं बिखर जाता हूँ…

बेसबब ही नम हो जाती हैं आंखें कभी,
शायद मैं उसके दिल में धड़क जाता हूँ|
तुम सिमट जाओ मैं बिखर जाता हूँ…

मैं बेवफा नहीं बस वक्त ही हूँ ‘वीर’,
गुज़रते गुज़रते गुज़र जाता हूँ|
तुम सिमट जाओ मैं बिखर जाता हूँ…

4.00 avg. rating (70% score) - 1 vote
  • तुम सिमट जाओ मैं बिखर जाता हूँ

    सारे एहसास इन पंक्तियों में समा गए …..बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति

  • nnnnice

  • मैं बेवफा नहीं बस वक्त ही हूँ ‘वीर’,
    गुज़रते गुज़रते गुज़र जाता हूँ|
    तुम सिमट जाओ मैं बिखर जाता हूँ…

    waah bahut Achche..Sunder Bhav….

  • है नहीं उम्र देने को पास मेरे,
    हाँ कुछ लम्हें ज़रूर चुरा लाता हूँ|
    तुम सिमट जाओ मैं बिखर जाता हूँ…
    …pyarbhare ahsaas ka bhavpurn chitran bahut achha laga….

  • Raghu

    अहा क्या बात कही है ….

    तेरी खुशी में ही अपनी खुशी पाता हूँ,
    तुम सिमट जाओ मैं बिखर जाता हूँ|

    सारा का सारा सार इसमें ही है .
    वाह जी वाह …

  • bahut achha

  • awesome !

  • बहुत बढिया !!

  • बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
    ढेर सारी शुभकामनायें.

  • बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति……

  • कल मंगलवार को आपकी रचना … चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर ली गयी है

    http://charchamanch.blogspot.com/

  • raghulaughter

    मैं बेवफा नहीं बस वक्त ही हूँ ‘वीर’,

    गुज़रते गुज़रते गुज़र जाता हूँ|

    तुम सिमट जाओ मैं बिखर जाता हूँ…

    वाह !!!

%d bloggers like this: