मैं हुंकार लेकर

जितना पीछे खींचकर रोकोगे मुझे,
उतना आगे बढूंगा मैं हुंकार लेकर |

उठा हूँ एक ज़र्रे से आंधी बनकर,
मैं अपने आगोश में गुबार लेकर |
उतना आगे बढूंगा मैं हुंकार लेकर…

ये क्या शोलों से डराते हो मुझे,
मैं चलता हूँ हाथों में अंगार लेकर |
उतना आगे बढूंगा मैं हुंकार लेकर…

इस जूनून ने सबकी ज़बीं झुकाई है,
मैं बढ़ता हूँ महनत का औज़ार लेकर |
उतना आगे बढूंगा मैं हुंकार लेकर…

परवाह नहीं, दिल से टपकते लहू की,
मैं मदहोश हूँ आँखों में खुमार लेकर |
उतना आगे बढूंगा मैं हुंकार लेकर…

0.00 avg. rating (0% score) - 0 votes