मौत का इंतज़ार

घिस घिस के हाथ लहू हुआ,
लकीरें मिट जाती क्यों नहीं|

सांसों ने बांधा है मुझे इनसे,
एक बार रूठ के जाती क्यों नहीं|

रूठी जिंदिगी को मनाया हमने बहुत,
कभी ये हमें मनाती क्यों नहीं|

है खंजर तेरा मेरे गले पर,
हलक मुझे क्यों कर डालती नहीं|

मुन्तज़िर अपनी मौत का क्यों रहे वीर,
उसकी है तो आती क्यों नहीं|

0.00 avg. rating (0% score) - 0 votes
  • रूठी जिंदिगी को मनाया हमने बहुत,
    कभी ये हमें मनाती क्यों नहीं|
    “सुन्दर अभिव्यक्ति…….”
    regards

    • वीर

      shukriya..

  • Raghu

    मौत का इंतज़ार

    मुन्तज़िर अपनी मौत का क्यों रहे वीर,
    उसकी है तो आती क्यों नहीं|

    सुहान अल्लाह

%d bloggers like this: