मेरी कलम टूट गई

मैंने बात झूट कही,
मेरी कलम टूट गई|

अच्छा ही हुआ शायद,
ये आदत भी छूट गई|
मेरी कलम टूट गई…

मेरी हमराह थी वो,
मुझसे ही रूठ गई|
मेरी कलम टूट गई…

ख्वाबों का था खज़ाना एक,
जिंदिगी उसे लूट गई|
मेरी कलम टूट गई…

4.00 avg. rating (80% score) - 1 vote