पथराई आँखों को अब ख्वाब ना दे

मैं कब का जा चूका हूँ मुझे आवाज़ ना दे,
इन पथराई आँखों को अब ख्वाब ना दे|

कोई भी सिरा खुला ना छोड़ फ़साने का,
अंजाम की शक्ल में मुझे आगाज़ ना दे|
इन पथराई आँखों को अब ख्वाब ना दे…

मुझे गवारा हो गयी तुम्हारी ख़ामोशी,
सवाल को सवाल रहने दे अब जवाब ना दे|
इन पथराई आँखों को अब ख्वाब ना दे…

इतना सब्र कहाँ से मिला तुझे हमनफस,
उम्र भर पूछता रहा भले कोई जवाब ना दे|
इन पथराई आँखों को अब ख्वाब ना दे…

अपनी तनहाई से भी क्या पर्दा ‘वीर’,
इस सूनेपन को बेखुदी का नकाब ना दे|
इन पथराई आँखों को अब ख्वाब ना दे…

0.00 avg. rating (0% score) - 0 votes
%d bloggers like this: