फिर भी हम चलते रहे

ग़मों के कांटे चुभते रहे,
फिर भी हम चलते रहे|

मिलते रहे सभी से मगर,
अपने दायरों में सिमटते रहे|
फिर भी हम चलते रहे …

मुरझाये से रहे उम्र भर,
आरजू के गुल महकते रहे|
फिर भी हम चलते रहे …

फिर मिले बिना शर्त प्यार,
बच्चों से हम मचलते रहे|
फिर भी हम चलते रहे …

गिरना तो फितरत ही थी,
गिर गिर के संभालते रहे|
फिर भी हम चलते रहे …

क्या है तेरा वजूद ‘वीर’,
मौसम से तुम बदलते रहे|
फिर भी हम चलते रहे …

0.00 avg. rating (0% score) - 0 votes
  • ग़मों के कांटे चुभते रहे,
    फिर भी हम चलते रहे|
    —–bahut badhiya

%d bloggers like this: