प्यासा रहता है

कोई सहरा में एक बूँद ढूँढता है,
कहीं सागर भी प्यासा रहता है|

कहीं चार लम्हें जिंदिगी बन जाते हैं,
कहीं कोई पल पल मरता है|
कहीं सागर भी प्यासा रहता है…

कभी अश्क पीता है छलकने से पहले,
कभी खामोश तन्हा सिसकता है|
कहीं सागर भी प्यासा रहता है…

कहीं लफ्ज़ कह नहीं पाते हैं खलिश,
कहीं कोई आँखों से ही सब कहता है|
कहीं सागर भी प्यासा रहता है…

कहीं किस्मत को इलज़ाम मिलते हैं ‘वीर’,
कहीं कोई लहरों सा बहता है|
कहीं सागर भी प्यासा रहता है..

0.00 avg. rating (0% score) - 0 votes
%d bloggers like this: