शब्दों का मदारी

शब्दों का मदारी समझते हो,
ख़ामोशी को वफादारी समझते हो|

रिश्तों में कोई प्यार नहीं है,
इन्हें बस जवाबदारी समझते हो|
शब्दों का मदारी समझते हो…

हाँ सोचता हूँ हर पल तुम्हे,
इसे मेरी बेरोज़गारी समझते हो|
शब्दों का मदारी समझते हो…

बस यूँ ही अनसुना कर देते हो,
या कोई बात हमारी समझते हो|
शब्दों का मदारी समझते हो…

जो हमने कही दिल की बात तुमसे,
क्यों इसे मेरी अदाकारी समझते हो|
शब्दों का मदारी समझते हो…

मेरी बंदगी ही मेरा ईमान है ‘वीर’,
इसे किस्मत की लाचारी समझते हो|
शब्दों का मदारी समझते हो…

0.00 avg. rating (0% score) - 0 votes
%d bloggers like this: