शहर

भागता शहर, भटकता शहर,
इतनी नसों में धड़कता शहर|

हर कदम पर कोई कदम साथ है,
मगर हर कदम पर लड़कता शहर|

जिंदगी वहीं की वहीं थमी हुई है,
जाने किस तलाश में भटकता शहर|

अपने घर तो सबसे छूट गए,
मेरी इन आँखों को खटकता शहर|

0.00 avg. rating (0% score) - 0 votes
%d bloggers like this: