तो बेहतर होता

मुंह हमसे मोड़ लेते तो बेहतर होता,
ये दिल तोड़ ही देते तो बेहतर होता|

बेगानी सी लगती है अब तन्हाई भी,
वक़्त रहते हमें छोड देते तो बेहतर होता|
ये दिल तोड़ ही देते तो बेहतर होता…

खबर थी हमें मंजिलों की साज़िश की,
रास्तों को हम मोड़ देते तो बेहतर होता|
ये दिल तोड़ ही देते तो बेहतर होता…

शीशे सा दिल कभी तो टूटना ही था,
अपने हाथों से ही फोड़ देते तो बेहतर होता|
ये दिल तोड़ ही देते तो बेहतर होता…

नशा मोहब्बत का बहूत देर में उतरा ‘वीर’,
मय से ही रिश्ता जोड़ लेते तो बेहतर होता|
ये दिल तोड़ ही देते तो बेहतर होता…

3.00 avg. rating (57% score) - 1 vote
  • Chandrama

    Depressing yet true!

%d bloggers like this: