तुमसे बेहतर मुझे कौन

मेरी हर एक अदा को दिल से लगाया है,
तुम से बेहतर मुझे कौन समझ पाया है|

अश्क जो छुपा रखे थे मैंने,
दर्द जो दबा रखे थे मैंने,
उन सब से तुमने अपना दामन सजाया है|
तुम से बेहतर मुझे कौन समझ पाया है…

4.00 avg. rating (67% score) - 1 vote
%d bloggers like this: