वो मुझसे जुदा और क्या होगा

अंजाम ए वफ़ा और क्या होगा,
वो मुझसे जुदा और क्या होगा|

हमें गम की आदत है और हसरत भी,
सौदा ए इश्क में नफ़ा और क्या होगा|
वो मुझसे जुदा और क्या होगा…

ये भी दौर गुज़र जायेगा ‘वीर’,
कोई खुदसे बेवफा और क्या होगा|

0.00 avg. rating (0% score) - 0 votes
%d bloggers like this: