धड़क रहा हूँ

मैं बदल गया हूँ,
मैं बदल रहा हूँ,
सबकी निगाहों को क्यों,
मैं खटक रहा हूँ|

मुझ में क्या था,
जो अब नहीं है|
मुझ में क्या है,
जो पहले नहीं था|

मैं तब भी धड़क रहा था,
मैं अब भी धड़क रहा हूँ|

5.00 avg. rating (77% score) - 1 vote
  • ankitaraichouksey

    GOOD

%d bloggers like this: