आईने में

फिर सर झुकाये दिखे हम आईने में,
फिर खुदको छुपाये दिखे हम आईने में|

जो अक्स धुंधला दिया वक्त ने,
उससे फिर घबराये दिखे हम आईने में|

0.00 avg. rating (0% score) - 0 votes
%d bloggers like this: