क्यों मुझे तुम मिले

पूछ रहा हूँ लकीरों से,
क्यों तुम मुझे मिले|

अब सारी कश्मकश,
एक शख्स में समा गई|

0.00 avg. rating (0% score) - 0 votes
%d bloggers like this: